अर्ज किया है,

वो करते है याद ज़माने को देखकर,

वो करते है याद ज़माने को देखकर,

कि इक सनम मेरा भी है, इसी भीङ में खोया हुआ ॥

विराज

About "विराज़"

"Poet"

One Reply to “अर्ज किया है,”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*