गिरने का जमाना है आया।

गिरने का देखो जमाना हि आया।
शेयर गिर रहा है हेयर गिर रहा हैं ।
समझता था ऊपर चढे वो है गिरते
मगर जो है नीचे वही गिर रहे हैं ।
क्या बात है सच का साथी रहा जो
वही घिर रहा है सही घिर रहा है ।
गिराने की ख्वाहिश रही दिल में जिसके
मुझे तो गिराने में खुद गिर रहे है ।
गिरने का देखो जमाना हि आया।
शेयर गिर रहा है हेयर गिर रहा हैं ।
कहीं पर चढ़ा भाव आलू के देखो
कहीं प्याज उछली नभ छू रही है ।
मगर यह भी देखा भाव भारी है जिसका
उसकी नियति दर कदम गिर रहा है ।
गिरने का देखो जमाना हि आया।
शेयर गिर रहा है हेयर गिर रहा हैं ।
साधु का गुण है समभाव रहते
मन था सदा खुश और थिर रहा है ।
बढती जब लालच का मुख बढ गया है ।
गिरने की सीमा तक वह गिर गया है ।
गिरने का देखो जमाना हि आया।
शेयर गिर रहा है हेयर गिर रहा हैं ।
गिरने की सीमा न कोई रही आज तक है
सबसे हि ज्यादा नियति गिर रहा है ।
कहते भी कैसे किसी को बुरा यूँ
जब पल पल लोगों कि मति गिर रहा है ।
कीमत तो गिरती है फिर उठ सकी हैं
पर मति का गिरा न कभी कभी उठ सका है ।
नजर से गिरा फिर न उठता है जन मे
बड़ी गांठ गहरी जो पडती है मन में ।
विन्ध्य प्रकाश मिश्र “विप्र ”
विचार

About Vindhya Prakash

विन्ध्य प्रकाश मिश्र विप्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.