“तड़प”

बड़ी अजब सी वो “तड़प” थी,
लगता है जैसे खुद की,
खुद से ही “झड़प” थी
जब खड़ा दूर होकर मै,
“रोता” तुम्हे देखता था..
मै “जलता”;
तुम्हे देखता था,
“तड़पती” थी तुम और मै;
“तड़पता” तुम्हे देखता था….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*