दिवाली खूब मनाना रे!!

दिवाली खूब मनाना रे! !
जमकर धूम मचाना रे!
लेकिन ये भूल ना जाना रे! !
बाहर का अंधेरा भगाकर,
भीतर का तम भी मिटाना रे! !
दिवाली……
इतने अद्भुत राष्ट्र मे जन्मे इसी बात का गर्व है!
उल्लास, प्रेम, सत्य, शांति, सौहार्द का ये पर्व है! !
उपहार और मिठाई देकर सबको गले लगाना रे! !
दिवाली……
छोटे और बड़े सर्वत्र, स्नेह अपार बरसाएँ!
इस पावन पर्व की, सबको मंगलकामनाएँ! !
मगर पटाखों के प्रदूषण से पर्यावरण को बचना रे! !
दिवाली…..

Gurupawan bharti

About Kavyakosh

Our aim is to spread the Hindi literature to the entire globe. Looking out for quality poets who can help us in this noble mission.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*