मानव-सेवा

मानव-सेवा

ईश्वर को सब पूजते , जाते मंदिर धाम l
मात-पिता के चरणों में, बसे है चारों धाम l
उनकी सेवा मात्र से ,प्रसन्न हो भगवान l
जन्म सफल हो जायेंगे ,करो यदि ये काम ll

मानव सेवा सच्ची सेवा, जो करे सुख पायेl
मन की शांति उसे मिले, जन्म सफल हो जाये l
भूखे को रोटी खिला, प्यासे को पिला पानी l
उनके आशीर्वाद से , कभी न हो तुझे हानि ll

नारी है नारायणी ,जो उसको दे सम्मान l
लक्ष्मी घर विराजेंगी ,भरे उसके धन-धानl
माँ ,बहन, बेटी में ,देवी का रूप समाये l
इनकी सेवा मात्र से , कोई विघ्न न आये ll

बच्चें है ईश्वर का रूप ,ईश्वर का अंश समाये l
छल-कपट बहुत दूर है,तभी मन को वो भाये l
इस सच्चाई को यदि ,हम सब ये समझ जाये l
न हो कोई दुश्मनी ,बैर जन्म ना कभी ले पाये ll

ईश्वर सब के मन में ,रहता है विराजमान l
सच्ची सेवा मात्र से ,दर्शन दें भगवान l
मंदिर पूजों चाहे तुम , कर लो चारों धाम l
बिन मानव सेवा के , अधूरे है सब काम ll

 

-Rajeev Gupta

4 Replies to “मानव-सेवा”

Leave a Reply to Rajeev Gupta Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*