मुक्तक- तू और मैं

मुक्तक — तू  और मैं 

तू आगे आगे था तूने पलटकर नहीं देखा

तेरे पीछे मैं था तूने पलटकर नहीं देखा।

तेरे पीछे किसका लहूलुहान नक्शे-कदम था

तेरा था या मेरा तूने पलटकर नहीं देखा।

              ——   भूपेन्द्र कुमार दवे

             00000

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*