मुक्तक

मुक्तक

अगर सीने मे ये कम्बख्त…….. दिल न होता,
न रातों की नींद उडती, न दिन का चेन खोता।
ये करिशमा है…………………..कुदरत का,
ना तू मुझमें होता…………… ना मैं तुझमे होता॥

संजय नेगी ‘सजल’

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*