मृत्यु सिमरन

मृत्यु सिमरन

अंधकार नही ,

जीवन का द्वार है मृत्यु I

भय नही ,

उससे मिलने की राह है मृत्यु I

 

होता तात्पर्य मृत्यु का मिटना ,

पर मिटता यहां कुछ भी नहीं ,

फिर कैसी मृत्यु और कैसा अंत ,

यथार्थ में मृत्यु कभी होती ही नहीं I

 

मृत्यु है ही नही मृत्यु ,

है तो सिर्फ़ मानव के अज्ञान में ,

मृत्यु नाम है बस एक पड़ाव का ,

रुक कर जहां, हो जाता मिलना उससे I

 

विजय गर उसे पाने का नाम है मृत्यु ,

तो जीते जी क्यों ना वोह राह् चलूँ ,

जीवन भर मृत्यु को निर्भय सिमर कर,

जीवन की हर साँस उसमें जी सकूँ I

 

                                                …..….. यूई विजय शर्मा

About UE Vijay Sharma

Poet, Film Screenplay Writer, Storyteller, Song Lyricist, Fiction Writer, Painter - Oil On Canvas, Management Writer, Engineer

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.