वक्त

वक्त से सीखा की वक्त किसी के लिये रूकता नहीं
वक्त ने ही जताया, वक्त सब का एक सा चलता नहीं
बदलते वक्त के साथ जो बदल गये,उन्हें परेशानी नहीं
जो बदल नहीं पाये,उनकी निशानी वक्त ने छोड़ी नहीं
वक्त से पहचान,वक्त के आगे किसी की चली नहीं
जब वक्त आये, पतन का कारण,अभिमानी जाने नहीं
अहम अपने ग़रूर का,वहम से असर को माने नहीं
वक्त बनाता,वक्त ही मिटाता,यह बात अनजानी नहीं

 
सजन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*