वैराग चित्

वैराग चित्‌

कर पाए जब तूं दिल से

प्रति सुख और दुख के, एक समान उपेक्षा I

कर पाए जब अंतर मन से

विभिन भ्रांतियों पर, चिरकाल विजय I

कर पाए जब यह अनुभूति

ना इधर कोई राग, ना उधर कोई राग I

कर पाए जब अपने अन्दर

हो कर उसकी लौ में रोशन, मातृ सत्य का दर्शन I

कर पाए निर्लेप-निर्मल चित्‌

जिसमे तूं नही, मैं नही, कोई विचलन नही  I

जान ले, पैदा कर पाया अब ख़ुद में

उसकी मन-भाती, संपदा वोह वैराग की I

विजय तेरे इस वैराग-चित्‌ को

देगा ख़ुद आकर वोह, इक दिन अपनी स्वीकृति I

                                         

                                             …… यूई विजय शर्मा

About UE Vijay Sharma

Poet, Film Screenplay Writer, Storyteller, Song Lyricist, Fiction Writer, Painter - Oil On Canvas, Management Writer, Engineer

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.