शायरी-११

आसान थे जो रास्ते,
दूसरों की नज़रो में,

पार करने वालों से पूछिए,
कितनी मेहनत लगती हैं,

इस छोर से,
उस पार उतरने में ॥

‘विराज’

Advertisements

About "विराज़"

"Poet"

2 Replies to “शायरी-११”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*