शायरी-७

शब्दों की अहमियत, जब समझ आने लगे,
बन्द होठों से, जब लफ्ज़ फङफङाने लगे,

तो जान लेना कि:-
ये दिल अब अपना नहीं रहा ॥

‘विराज’

About "विराज़"

"Poet"

One Reply to “शायरी-७”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*