शायरी

वो छीन गया मुझे,
मुझसे ही छुङाकर,

आज़ाद हुआ फिरता था,
जो बदनाम गलियों में ॥

‘विराज’

Advertisements

About "विराज़"

"Poet"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*