शेरों -शायरी -११

बहुत खोजा सकुन की दिल को कोई चैन आये
खोज की फितरत में रहा सहा चैन भी लुटा आये

सजन

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*