शेरों -शायरी -१२

राजनैतिक नागपाश, श्रम दिवस का अवकाश
जुलूस नारेबाजी,मजदूर की मजबूरी का उपहास

सजन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*