शेरों -शायरी -12

जमाने की चोट सहने वाले का वजूद निखरता है
मुरत बने के पहले पत्थर भी कितनी चोट खाता है
सजन

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*