शेरों -शायरी -3

लोगों की फिक्र न थी बर्ताव में,जीवन के उतार चढ़ाव में
फिर भी जरूरत सोहबत की रही, जीवन के हर हाल में
सजन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*