शेरों -शायरी -4

सपना देखा था सपनों के लिये
सपने में खोये रहे सपने लिये
सजन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*