शेरों -शायरी

ख्वाहिश है बारिश की बूंदों सा बिखर जाऊं
जंहा भी गिरूं वहां अपना असर तो दीखाऊं
सजन

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*