सरस्वती वंदना

सरस्वती वंदना

माँ वीणा पुस्तक धारिणी
नमन करो स्वीकार ।
आए माँ तेरी शरण
दो विद्या का उपहार।

ऋणी रहे हम सदा तुम्हारे
तेरी स्तुति गाये ।
ऋषि मुनि करे वंदना तेरी
देव भी शीश नवाये।।

मिटा दो माँ इस जीवन से
अज्ञानता का अंधकार ।
आए माँ तेरी शरण
दो विद्या का उपहार।।।

दया करो इस दास पर माँ
दर्शन दो एक बार ।
तेरे बच्चे तुझे बुलाये
आओ माँ करके हंस सवार ।।

मांगे माँ बस ज्ञान तुझसे
ना मांगे संसार ।
आए माँ तेरी शरण
दो विद्या का उपहार ।।

जय माँ शारदे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*