आलौकिक शक्ति

कोई तो शक्ति है इस ब्रह्माण्ड में l जो किसी को नज़र नहीं आती l किन्तु किसी न किसी रूप में l अपने होने का आभास कराती ll कैसे एक माँ की कोख में l शरीर के अंग बन जाते है ? आँख ,नाक सब एक से l चेहरे अलग नज़र आते है ? कैसे सूरज की दस्तक से l ये अंधकार मिट जाता है? चंदा मामा के आते ही l सूरज कहाँ छिप जाता है ? सांसो की डोरी जब टूटती l कैसे शरीर ढेर हो जाता है ? कहाँ चली जाती वो सांसे l कोई समझ नहीं पाता Continue reading आलौकिक शक्ति

Advertisements

मन का बोझ

सुनाता हू दास्ताँ उन्हें अपना समझकर l अनसुना कर देते है पागल समझकर ll नहीं कहता तो दिल परेशान हो जाता है l कहता हू क्योकि मन हल्का हो जाता हैll कहते है अपने तो अपने होते है l परायो में भी अपने छिपे होते है ll कभी अपने भी दगा दे जाते है l कभी पराये साथ निभा जाते है ll कैसो हो पहचान समझ न पाया l कौन है अपना यहाँ कौन पराया ll मन पर बोझ नहीं रखा जाता l सो  अपना समझ,दुःख बताता ll जो दुःख आना है वो जरूर आएगा l बस कह सुनकर कम हो Continue reading मन का बोझ

अब इतना उनको याद न कर

जिंदगी यू बरबाद न कर … जो भूल गए तुझे…. भूल तू उनको इतना उनको याद न कर॥ वो दोस्त न थे न साथी थे … तेरे बस हमराही थे … तू उनको भूल के आगे बड़ … जो वक़्त गया उसे जाने दे… अब सोच के पल बरबाद न कर॥ क्यो सोचता है तू बाते उसकी फिकर तू उसकी छोड़ दे वो कहती है ना नफरत है… मायूस ना हो तेरी किस्मत है॥ खामोश ना रह नादान वो पागल… जो हुआ उसे अब जाने दे तू उनको भूल के आगे बढ़ अब वादो पर विश्वास ना कर… अब इतना Continue reading अब इतना उनको याद न कर

मन के झूठे मै ख्वाब लिखूँ

कुछ बात लिखूँ जज़्बात लिखूँ या मन के झूठे मै ख्वाब लिखूँ मै लिख तो दु सब बाते तेरी… पर लिखूँ तो क्या बात लिखूँ तू भूल गयी तो भूल गयी जा तेरी मै क्यो बात लिखूँ…   टूटे अपने अरमान लिखूँ या तेरा झूठा वाला प्यार लिखूँ मै अपने मन के घाव लिखूँ या दिल के अपने हाल लिखूँ अभी धूप लिखूँ की छाव लिखूँ या खूब अंधेरी रात लिखूँ. ॥     कुछ बात लिखूँ जज़्बात लिखूँ या मन के झूठे मै ख्वाब लिखूँ मेरी बातों को न समझेगी…पगली  क्यो समझाने की बात लिखूँ… मै लिख तो दु तेरी Continue reading मन के झूठे मै ख्वाब लिखूँ

जब याद तुम्हारी आती है

जब याद तुम्हारी आती है ये वक़्त ठहर सा जाता है आंखो से पानी गिरता है पलके भारी हो जाती है ॥ जब याद तुम्हारी आती है मेरी  साँसे रुक सी जाती है॥ इजहार तेरा इकरार तेरा और पल दो पल का साथ तेरा कभी बैचनी सी बढ़ती है …. जब याद तुम्हारी आती है ॥ वादा कर के भूल गयी॥ क्यो पगली मुझसे रूठ गयी… सुन दिल मे तू ही समाई है॥ जब याद तुम्हारी आती है मेरी  साँसे रुक सी जाती है॥ तुम्हारा पल मे हसना… पल मे रूठ जाना याद आता है और जो मै रूठ जाऊ Continue reading जब याद तुम्हारी आती है

सृष्टि

नभ में अरुणिमा का प्रसार क्षितिज सुनहला, वृहत विस्तार प्रकृति ने धारे नव्य अलंकार वसंत ने दिया रूप संवार ।। प्रातः के नित्य रूप अभिनव कूजते, कुहुकते पंछियों का कलरव अर्चना के बहें स्वर अनुपम भोर की पुरवा में घुलता सरगम ।। पुलकित, चंचल, किलकते बाल गौओं को ले जाते पशुपाल सुकोमल नार भरे गागर ताल खेतिहरों ने लिए हल सँभाल ।। प्रहर चढ़ा, हुआ तप्त मलय दिवाकर का रूप अति तेजोमय पथिक सोए अमराई की छाँव निश्चल, शांत, शिथिल हुआ गांव । । प्रतीची की ओर बढ़े विवस्वान संध्या ने किया निशा का आह्वान तारों और मृगांक का रुपहला Continue reading सृष्टि

राजनीति का खेल

हम क्यों राजनीति में घुस जाते है l राजनीति पार्टी को दिल से लगाते है ll पार्टी कोई भी हो वो रंग जाती है l वो सिर्फ अपनी कुर्सी बचाती है ll राजनीति तो शतरंज की बिसात है l इसको समझ पाना टेढ़ी बात है ll ये आज लड़ते है फिर मिल जाते है l हम यू ही आपस में लड़ते जाते है ll मत छोड़ो दिलो में राजनीति की छाप l वो कांग्रेस हो बीजेपी हो या हो आप ll हमारे भूखे पेट को ये नेता नहीं भरेंगे l ये तभी भरेंगे जब हम मेहनत करेंगे ll आओ प्रण Continue reading राजनीति का खेल