तुझे अंबे कहू या दुर्गा

तुझे अंबे कहू या दुर्गा तुझे अंबे कहू या दुर्गा, तू काली है या महामाया l दुःख दूर करो महारानी , मैं तेरे ही दर पे आया ll तुझे अंबे कहू या दुर्गा, तू काली …………………….. मुझे दुःख ने आज है घेरा ,मेरे चारों तरफ अँधेरा l मेरी  नैय्या  पार लगा दो ,  मैं बच्चा हूँ माँ तेरा ll तू  संकट  हरने  वाली , मेरी जगदंबे  महामाया l दुःख दूर करो महारानी , मैं तेरे ही दर पे आया ll तुझे अंबे कहू या दुर्गा, तू काली ………………… तेरा भक्त्त हूँ मैं महारानी,मुझे अपनी शरण में ले लें l मेरा Continue reading तुझे अंबे कहू या दुर्गा

Advertisements

वो मेरी तस्वीर छुपाए रखती थी

वो मेरी तस्वीर छुपाए रखती थी जालिम ज़माने के डर से खामोश रहा करती थी, नैनों में मगर अपने अश्क़ छुपाए रखती थी। खोल कर किसी ने उसके सीने से लगी किताब को नही देखा, सुना है उस किताब में वो मेरी तस्वीर छुपाए रखती थी।।1।। हम गुजरते थे जब उसके महोल्ले से, मेरे नाम के खूब किस्से सुनाई पड़ते थे। हम जब नजर उठाकर देखते उसके झरोखे में, वो परदे की आड़ से हमे देखा करती थी।।2।। इत्र गुलाब का छिड़क कर जब वो कॉलेज पहली बारी आई थी, आज भी वो खुशबू पुरे क्लासरूम में महकती है। मुस्कुराकर Continue reading वो मेरी तस्वीर छुपाए रखती थी

मोदी जी की नोटबंदी

मोदी जी की नोटबंदी , ने सब अरमा तोड़ दिए l अब क्या होगा,कैसे होगा , सोचकर अब हम रो दिए ll मोदी जी की नोटबंदी , ने सब अरमा तोड़ दिए l गाड़ी भी होती,बंगला भी होता, नोटों भरा एक गल्ला भी होता l लेकिन यदि पहले पता होता ll तेरे लिए मैं गहने बनवाता , तुझको किसी होटल भी ले जाता l अगर मोदी नोट बंदी ना लाता ll नोटबंदी ने उन नोटों को , काग़ज मैं बदल कर रख दिए ll मोदी जी की नोटबंदी , ने सब अरमा तोड़ दिए l अब क्या होगा,कैसे होगा , सोचकर अब हम Continue reading मोदी जी की नोटबंदी

दर्द

बात ऐसी कह गए सोचा भी न कि हम पर गुजरेगी क्या , दर्द दिल में हुआ बिना आवाज था उनको पता क्या , सहें भी कितना हम ये उनसे पूछना तो चाहते है भला, सुनने वाला न कोई यहाँ हाले दिल करें जो बयां ॥ उनकी बातों ने आज दिल के टुकड़े कर दिए  हैं हजार, ढूंढेंगे भी तो भी न मिलेगा एक यहाँ और एक वहाँ क्या , चुभन को महसूस कर लिया कह न सकेंगे किसीसे , ऐसा तनहा उनकी बातों ने आज  हमको कर दिया ॥ नासूर सा दर्द दिल को दे दिया सोच भी नहीं ,       Continue reading दर्द