Latest

आता था

अब तो एक भी पहलू ना रुकते हैं वो यहाँ, जहा से उनका अदब बेहिसाब आता था. मैं तो सवालो के जालो में उलझ ही जाता हूँ, जहा
Read More

चापलूसी

मेरी कुछ पंक्तिया है आजकल जो बहुत चापलूसी चलती है उसके उपर, शायद यह कविता किसिको पसंद ना आये, पर आप जरा आपने इर्द-गिर्द़ गौर से झांकोगे तो
Read More

कवि (आम इन्सान)

मैं जहाँ भी रहा, बस कवि ही रहा, लोग चलते रहे, यूं बदलते रहे, अपनी जरूरतों के लिए, मुझको छलते रहे, अपने साथ चलने को, मुझे सबने था
Read More

जन्म लेना ही है साहस

8 मार्च, अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के निकट आते ही विभिन्न समारोहों का आयोजन व उनमे महिलाओं का महिमामंडन, वर्षों से चली आ रही एक सुनियोजित सी परंपरा है|
Read More

‘ याद ‘

वो पल थे बड़े मधुर , जा खड़ा हो तुमसे दूर , मै तुमको ही ; देखा करता था.. समेट लिये होते कुछ पल , जो लगता जैसे
Read More

गजल

मैंने मनाना छोडा नहीं, तुमने रूठना छोडा नहीं।   हर- पल तुमको प्यार किया मगर, तुमने सताना छोडा नहीं।   हार गये प्यार में, इस कदर हम, तुमने
Read More

मरहले 2

बागैरत से सही पर तेरे कुछ काम तो आये, जिन्दा ना सही पर कुछ नाम तो आये, किसी और के दिल में आज बसी है तू, पूरा ना
Read More

“तड़प”

बड़ी अजब सी वो “तड़प” थी, लगता है जैसे खुद की, खुद से ही “झड़प” थी जब खड़ा दूर होकर मै, “रोता” तुम्हे देखता था.. मै “जलता”; तुम्हे
Read More

वीरानी

इस बंजारे के दिल में वो निशानी सी मिली, जब भी लिखना चाहा वो कहानी सी मिली, सोचा था गुजर जायेगा ये सफ़र अब अकेले यूं ही मगरिब,
Read More

तुम्हारे साथ

तुम से मिलकर ये सोच रहा हूँ, जिलु अपना पूरा जीवन, इन दो पलो मे, बस इन दो पलो मे, फिर क्या पाना, क्या खोना, बस ये दो
Read More

मोहब्बत उसकी

दिल में आज मोहब्बत कही ठहरती ही रही, उसके दिल में मेरी चाहत कही मरती ही रही, मैंने बस उसे तड़पाया ही है अपनी मोहब्बत में, और वो
Read More

“मेरे गीत”

मै गीत के बोलों से, तुमको नचा डालू, इन झङते फूलों से, तेरा आंचल सजा डालू, भंवरे की गुंजन सा, इक राग बना डालू, इक पुकार करो, मैं
Read More