!!

Welcome to Kavya Kosh

This is a retired Kavyakosh forum used as an archive. To access new Kavyakosh.Click here


Post reply

Name:
Email:
Subject:
Message icon:

Verification:
५+५ =:

shortcuts: hit alt+s to submit/post or alt+p to preview


Topic Summary

Posted by: rochika.sharma.3
« on: March 06, 2015, 01:41:23 PM »

THANK U AKASH
happy hOLI TO U AND YOUR FAMILY.
Posted by: akash maurya
« on: March 06, 2015, 01:51:07 AM »

ji is kavita sath sath apke vyavar ka b pata chalta h. ye kavita bahut hi achha aur thoda kalpana par bhi adharit h. mujhe kalpanao se bharpur poem achha lagta h. jayram ji ki
Posted by: rochika.sharma.3
« on: March 05, 2015, 01:39:28 PM »

   “   इंद्रधनुषी सपनों की होली   “
ओढ़ चुनरिया सतरंगी ,  सजी पूर्णिमा फाल्गुन की,
करके विदा शीत ऋतु को,   वसंत संदेशा लाई प्रकृति  ।
   
लदे बगीचे फूलों से,   गेहूँ की बलियाँ इठलाई,
लगे किसान नाचने झूमने ,   लो आई होली आई  ।   
 
पलाश, जासौंन्, चंदन,  गुलाब,   रंग , अबीर , गुलाल उड़ें,
फाग,  धमार,  गाएँ हुरियारे,   ढोलक,   झांझ,   मंज़ीर बजे  ।
   
ब्रिज में रास रचाए कान्हा ,    हर्षित,    पुलकित हर ब्रिज बाला,
अपने रंग में रंग लो श्याम ,   फीका ना हो कभी रंग निराला ।

दूर खड़ी इक नवयौवना ,    मेहन्दी का रंग ना जिसका छूटा,
सुहाग जो उजड़ा, दुनिया उजड़ी ,   श्वेत वरण ने हर रंग लूटा ।
   
उसको भी ले लें हम संग में ,    रंग जाए वो सब के रंग में,
जीवन इंद्रधनुषी कर दें  ,   सपनों में रंग उसके भर दें   ।   
 
रूढ़िवाद को दूर भगाएँ  ,    उत्पीड़न , बैर की होलिका जलाएँ ,
कटुता भूल पुरानी मन की ,  आओ हम होली मनाएँ     ।     
                                   
                                  रोचिका शर्मा (इंजिनियर)
                                                  चेन्नई
दोस्तों यदि आपको मेरी कविता पसंद आए तो आप से अनुरोध है की रिप्लाइ ज़रूर करें    ।
                         धन्यवाद