!!

Welcome to Kavya Kosh

This is a retired Kavyakosh forum used as an archive. To access new Kavyakosh.Click here

Author Topic: होली ………जलकर रँगने का त्योहार  (Read 254 times)

Offline praveen.gola.56

  • Jr. Member
  • **
  • Topic Author
  • Posts: 88
  • Karma: +0/-1
:) :) :) :)

होली ………जलकर रँगने का त्योहार ,
जैसे ज्ञानी के शुद्ध विचार ,
पहले खुद की आहुति देता ,
फिर रंग देता  ............. औरों का सँसार ।

होली ………जलकर रँगने का त्योहार ,
जैसे समुद्र मंथन में आया ज्वार ,
पहले फेन लहरों में तैराकर ,
फिर बहा ले जाए उसे  ............. दूर तक धार ।

होली ………जलकर रँगने का त्योहार ,
जैसे इन्द्रियों पर हो अपना इख्तियार ,
पहले चपलता से उनको भोगा ,
फिर सहजता से पकड़ें  ………सन्यास का द्वार ॥