!!

Welcome to Kavya Kosh

This is a retired Kavyakosh forum used as an archive. To access new Kavyakosh.Click here

Author Topic: जन्मास्ट्मी के दिन जन्मे मेरे दोस्त को बधाई  (Read 404 times)

Offline pcmurarka

  • Sr. Member
  • ****
  • Topic Author
  • Posts: 398
  • Karma: +1/-0
  • Gender: Male
  • प्रेमचंद मुरारका
यह तो शायद तुम्हारा सौभाग्य ही होगा
तुम जन्मास्ट्मीके दिन जन्मे
तुम माँ के लाड्ले पिता के दुलारे थे
तभी तो तुम्हारा नाम श्रीक़ृष्ण रखा होगा
इसमे कोई शक नहीं तुम थे मनमोहक
तुमने माँ का ढेर सारा प्यार पाया होगा
तुम्हें माँ टुकुर टुकुर निहारती होगी
कितनी बार काजल का टीका लगाई होगी
माँ को डर था किसी की नज़र न लग जाये
माँ पूजा करने बैठती जरूर होगी
पर मन तो तुम्हारे मे पड़ा रहता होगा
मौके का फायदा उठाकर तुम माखन मिछरी
चट कर जाते होगे
जन्मास्ट्मी के दिन जो जन्मे थे तुम
इसलिये तुम्हारे मे माखन चोरी की
आदत भी पड़ी होगी
माँ ऊपर से गुस्सा जरूर दिखाती होगी
पर मन ही मन बहुत खुश होती होगी
तुम्हें डाँटती भी जरूर होगी
तुम रोना शुरू कर देते होगे
फिर माँ को ही पुचकारना पड़ता होगा
एक तो चोरी ऊपर से सीनाचोरी
यह आदत श्रीक़ृष्ण मे भी थी
सचमुच तुम भाग्यशाली थे
माँ को अपने बश मे कर रखा होगा
पिता की गोद मे बैठकर उन्हे
प्रेमसागर मे गोते लगवाये होगे
आज तुम दोस्तो के दोस्त हो
तुम्हें सब चाहते है
आजके दिन सारी दुनिया तुम्हारा
जन्मदिन धूम धाम से मना रही है
आओ हम भी सब मिलकर तुम्हें
जन्मदिन की हार्दिक बधाई देवे |
------प्रेमचंद मुरारका