!!

Welcome to Kavya Kosh

This is a retired Kavyakosh forum used as an archive. To access new Kavyakosh.Click here

Author Topic: Introduce yourself  (Read 3249 times)

Offline admin

  • Administrator
  • Sr. Member
  • *****
  • Topic Author
  • Posts: 261
  • Karma: +0/-0
  • Gender: Male
Re: Introduce yourself
« Reply #10 on: December 20, 2012, 05:48:21 PM »
नंदकिशोर जी,
काव्यकोश मे आपका हार्दिक स्वागत।
कृपया आपके बारे मे थोड़ी बाते बता सकते है, जैसे की आप कविताए कब पड़ते और लिखते हो ?
आपको कविताए कबसे पसंद है ?

धन्यवाद
-Admin
Kavyakosh.com
+91 9870297193

Offline Abhay Kumar Gupta

  • Newbie
  • *
  • Posts: 26
  • Karma: +0/-0
Re: Introduce yourself
« Reply #11 on: April 02, 2013, 02:24:43 PM »
प्रणाम
हिंदी को गौरवशाली आयाम मिले उसके लिए काव्य कोष एक सराहनीय प्रयास है, पेशे से अभियंता हूँ, जीवन के विभिन्न सोपानों ने कविता या गद्य लेखन की और बरबस मोड़ दिया, कब कैसे हुआ ये सब पता नहीं, प्रेम और भक्ति पे लिखते लिखते , विद्रूप हो चुके नेत्रत्व ने अब व्यंग पर ला पटका है, माँ सरस्वती का आशीर्वाद कैसे संभाल पाउँगा ,कह नहीं सकता .
--जय हो सट्टे के महा-समर----
महा समर सट्टे का शुरू हो गया, अप्रेल में देश मशरूफ हो गया ,
एक नंबर में दो नंबर का धंधा , गली गली मशहूर हो गया,
प्यास लगे न भूख लगे , हर माँ के सर का दर्द हो गया,
इसे तो अफीम भली थी ? शान्ति तो घर में रहती थी,
बाप बेटे के बीच में भैय्या , शर्त लगाना शुरू हो गया,
भाभी थाली पटक गई हैं , बाप बेटे को होश नहीं है ,
सट्टा समीकरण फ़ैल हुआ यूँ , बाप हार बेटे से गए हैं,
ठंडी रोटी चबा रहे हैं , आंख ही आँखों में अब बेटे को चबा रहे हैं,
बेटे ने कारण पूछा तो , तेरी माँ को मनाऊं कैसे ,
फटी जेब अब दिखा रहे हैं ,
--जय हो सट्टे के महा-समर----

अनिल चिंतित

  • Guest
Re: Introduce yourself
« Reply #12 on: July 20, 2013, 08:50:00 AM »
अनिल शर्मा

Offline admin

  • Administrator
  • Sr. Member
  • *****
  • Topic Author
  • Posts: 261
  • Karma: +0/-0
  • Gender: Male
Re: Introduce yourself
« Reply #13 on: July 20, 2013, 11:17:02 PM »
अभय कुमार गुप्ता और अनिल शर्मा जी,
आपका काव्यकोश मे आपका हार्दिक स्वागत। :)
-Admin
Kavyakosh.com
+91 9870297193

Offline dineshcharan

  • Newbie
  • *
  • Posts: 16
  • Karma: +0/-0
  • Gender: Male
  • दिनेश चारण
Re: Introduce yourself
« Reply #14 on: November 06, 2014, 12:36:15 AM »
नमस्कार राहुलजी
मै पेशे से एक बैंकर हु
और दिल से एक साहित्य प्रेमी और रचनाकार
ऐसा याद आता है की कक्षा 5 से लिख रहा हु
सेकड़ो कविताये कुछ कहानिया और अब 2 उपन्यास पर
कार्य कर रहा हु  ।
ऐसा शानदार मंच प्रदान करने के लिए आप बधाई के हक़दार है ।

दिनेश चारण

Offline admin

  • Administrator
  • Sr. Member
  • *****
  • Topic Author
  • Posts: 261
  • Karma: +0/-0
  • Gender: Male
Re: Introduce yourself
« Reply #15 on: November 06, 2014, 11:14:35 AM »
दिनेश चरणजी,
आपका काव्यकोश मे आपका हार्दिक स्वागत।
-Admin
Kavyakosh.com
+91 9870297193

Bipul Sijapati

  • Guest
Re: Introduce yourself
« Reply #16 on: November 07, 2014, 11:04:06 AM »
मैं, विपुल सिजापति । मैं काठमाण्डुका रहनेवाला हूँ और यहीँके एक संस्था में कार्यरत हूँ ।

मेरा साहित्यमे रुझान है और नेपाली साहित्यका बिद्यार्थी हूँ । मेरा कास्कोल नामसे एक कथासंग्रह प्रकाशित होचुका है । मेरा हिंदी काव्यमे भी आशक्ति है और मै अपना नेपाली रचनाओंको हिन्दिमे रुपान्तरण करके आप सभी का मनोरंजनके लिए प्रेषित करता हूँ ।

सम्मान सहित ,

विपुल सिजापति
काठमाण्डौं, नेपाल ।
७ नोभेम्बर, २०१४ 

Offline Prieyranjan_Priyam

  • Newbie
  • *
  • Posts: 1
  • Karma: +0/-0
  • Gender: Male
Re: Introduce yourself
« Reply #17 on: November 07, 2014, 11:44:18 AM »

अपना परिचय यहाँ दीजिये.. आप क्या करते हो? आपकी पसंद क्या हे, और आपको कविता करने की आदत कब लगी..

मै क्लीनिकल रिसर्च में पारा-स्नातक कर रहा हूँ.मै पिछले ४ सालों से बैंगलोर में रहता हूँ.मुझे कविता लिखना और छोटे मोटे आर्टिकल्स लिखना बहुत पसंद है .जब मै ११ साल का था तब मैंने रिकेट पर कविता लिखना शुरू किया था जो की सचिन पर था.धीरे धीरे मैंने कुछ सालों तक क्रिकेट पर ही लिखता गया पर उसके बाद मैं अपने बड़े भाई से प्रेरि होके क्रिकेट के अलावा भी कविता लिखना शुरू किया .

Offline hemlata

  • Newbie
  • *
  • Posts: 23
  • Karma: +0/-0
Re: Introduce yourself
« Reply #18 on: November 07, 2014, 02:07:51 PM »
अपना परिचय यहाँ दीजिये.. आप क्या करते हो? आपकी पसंद क्या हे, और आपको कविता करने की आदत कब लगी. ;)

सर ,
मेरा नाम हेम लता है और मैं एक गृहणी हूँ ,मैं लखनऊ में जन्मी और दिल्ली में रहती हूँ ॥
कविता लिखने का शौक थोड़ा बहुत था बचपन मैं मेरी एक -दो कवितायेँ लोकल न्यूज़ पेपर में भी छपी. और शायद इसी वजह से आज भी कविता लिखने का शौक बरक़रार है ॥ मुझे धीमा और पुराना  संगीत पसंद है

Manvendra

  • Guest
Re: Introduce yourself
« Reply #19 on: November 07, 2014, 02:26:41 PM »
मेरा नाम मानवेन्द्र प्रताप सिंह
मै एक   NGO में MIS officer  के पद पर काम करता हूँ
कविता कहने का शौक मुझे सन २००० से है जब मै हाई स्कूल में था