!!

Welcome to Kavya Kosh

This is a retired Kavyakosh forum used as an archive. To access new Kavyakosh.Click here

Author Topic: मित्रता  (Read 809 times)

Offline nidhi

  • Full Member
  • ***
  • Topic Author
  • Posts: 134
  • Karma: +1/-0
मित्रता
« on: July 26, 2013, 02:58:15 PM »
यह  कविता मैं अपनी  मित्र 'अनुपम ' को इस 'मित्रता दिवस 'पर समर्पित  करना चाहूँगी।
                                             मित्रता

  अनूठा  एक  संबंध  यह
  प्रेम  की   डोर  से   बँधा
  स्नेह  और  विश्वास  की
  माला  में  है  जो  गुँथा
                            सँबल   और  धीरज   के   मोती
                            सच्ची  मित्रता   ही   पिरोती
                             पवित्र  निर्मल   भावों  की  ज्योति
                             इन   से   ही  यह   सुरभित   होती

 
  इसकी   लय   से   गीत   बनता
  इसके   रंगों   से   सुर   सजता
  भावों   की   इसमें   मधुरता
   हर्ष  से   इसके   ह्रदय   उमगता

                                           जोड़   हमारे   हृदयों  के   तार
                                            इसी   ने   किया  पुलकित  अपार
                                            हमें   मिला   यह 'अनुपम'  उपहार
                                             जिसकी 'नििध'   ने  महकाया   संसार
 

                                                                                         नििध
                           

Offline tripti.mishra

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 213
  • Karma: +10/-0
Re: मित्रता
« Reply #1 on: August 04, 2013, 01:58:54 PM »
निधि जी
बहुत बड़िया .।
अनुपम जी के लिए बहुत बड़िया गिफ्ट है ये :)