!!

Welcome to Kavya Kosh

This is a retired Kavyakosh forum used as an archive. To access new Kavyakosh.Click here

Author Topic: कल १५ अगस्त है  (Read 2259 times)

Offline pcmurarka

  • Sr. Member
  • ****
  • Topic Author
  • Posts: 398
  • Karma: +1/-0
  • Gender: Male
  • प्रेमचंद मुरारका
कल १५ अगस्त है
« on: August 14, 2014, 04:35:14 PM »
हमें आजादी
ऐसे ही नहीं मिली
कितनी माँ आंसू ने
इसे सींचा है
आंसुओ को रोका है
बेटे की शहादत पर
कितनीही वेवा हो गई
कितनी बहने
आज भी याद करती है
रक्षा बंधन पर्व पर
आंसू बहाती है
यह सोचकर
शायद मेरा धागा
कच्चा होगा जो
टूट गया
इन सबो की बलिदान
हमारी आज़ादी की
बुनियाद है
हम ब्यर्थ न जाने
देवेंगे उनके बलिदानको
चाहे जो भी हो जाए
हम १२५ करोड़ है
कब तक टिक पाएंगे
हमारे सामने देश के दुश्मन
दुश्मन के दांत
फिर खट्टा कर देवेंगे
यह वतन हमारा
हमारे सबका है
जैसे सरहद पर
सब मिलकर लड़ रहे है
तीनो वाहनी जैसे
हर पल हर वक़्त
मुस्तेन है देश के लिए
वैसे ही हम तैयार है
हमारे प्यारे वतन के लिए
कितनी बहने तैयार
खडी है राखी बांधने
जो हमारे वतन के लिए
स्वर्ग चले गए
वह कल के आज़ादीके
दिन का इंतज़ार
कर रहे है
नाचने के लिए
अपने तिरंगे को
फहराते हुए देखने के
लिए गा रहे है
बन्दे मातरम का गीत
कल सब कतारबद्ध होकर
गायेगे :
जन मन अधिनायक………                                                                                                                                       
उनकी ख़ुशी है
आज वतन आज़ाद है
हमें आज़ादी दिलाने की
उनकी तपस्या सफल हुई
आओ आज सब मिलकर
करे उन सबको नमन:

-प्रेमचंद मुरारका