!!

Welcome to Kavya Kosh

This is a retired Kavyakosh forum used as an archive. To access new Kavyakosh.Click here

Author Topic: वीर जवान  (Read 4234 times)

Offline sanjay.negi.902604

  • Newbie
  • *
  • Topic Author
  • Posts: 37
  • Karma: +0/-0
  • Gender: Male
  • Mera pahad
वीर जवान
« on: October 02, 2014, 04:29:41 PM »
ए वीर पुरुष ए वीर जवान,
होती देश में तेरी जयजयकार,
हृदय तेरा कोमल होता शरीर से तू बलवान,
देश के कोने-कोने में होता तेरा यशोगान,
ए वीर पुरुष ए वीर जवान ।
                                   इस भारत भूमि का कर्ज चुकाना,
                                   अभी करना है तुझे काम,
                                    देश में घुसे दुशमनो का,
                                     करना है उनका काम तमाम,
                                      ए वीर पुरुष ए वीर जवान ।
पडती है जब देश पर विपत्ति,
छोड देता तू घर-सम्पत्ति,
लडता है तू वीरता से,
प्राप्त हो जाता वीरगति को,
ए वीर पुरुष ए वीर जवान ।
                                  मरकर भी अमर हो जाता,
                                  ए देश के वीर जवान,
                                   घायल होकर भी लडता रहता,
                                   ए वीर पुरुष ए वीर जवान ।
आती टोली दुशमनो की घबराता तू नहीं,
दुशमनो को मार गिराकर,
करता है तू काम सही,
ए वीर पुरुष ए वीर जवान ।
                                खून-पसीना बहाकर अपना,
                                 बडाता है तू इस देश की शान,
                                 प्यारा है तू इस देश का इन्सान,
                                ए वीर पुरुष ए वीर जवान ।
अँग्रेजों के दाँत खटटे करके,
कर दिया उनका काम तमाम,
गली-गली में गूँजे तेरा यह प्यारा नाम,
ए वीर पुरुष ए वीर जवान ।
                              सुभाष,भगत और चन्द्रशेखर,
                              थे जो इस भारत की शान,
                              होता है इनका यशोगान,
                               ए वीर पुरुष ए वीर जवान ।
होता तेरा एक भगवान,
वह है तेरा अपना देश,
मर-मिटने को तैयार हो जाता,
लडता है सिपाही के भेष,
ए वीर पुरुष ए वीर जवान ।

संजय नेगी
महिन्द्रा राइज
हरिद्वार