!!

Welcome to Kavya Kosh

This is a retired Kavyakosh forum used as an archive. To access new Kavyakosh.Click here

Author Topic: उसकी मुस्कुराहट  (Read 312 times)

Offline dineshcharan

  • Newbie
  • *
  • Topic Author
  • Posts: 16
  • Karma: +0/-0
  • Gender: Male
  • दिनेश चारण
उसकी मुस्कुराहट
« on: October 31, 2014, 11:30:16 AM »
   उसकी मुस्कराहट

जिंदगी का हर एशो-ओ-आराम वार दू
तेरी मुस्कराहट पर ।
दुनिया की हर आवाज को भुला दू
तेरी एक आहट पर ।
हरा दरख़्त ,
जैसे उजड़े चमन में ।
और उस दरख़्त पर
सुमन के खिलने की आहट ।
बस वो ही है तेरी मुस्कराहट ।
जेठ की दुपहरी में झुलसता बदन ,
ऐसे में सावन की ठंडी पुरवाई ।
मेरे दिल में था गहरा अँधेरा तन्हाई का ,
उसमे तुम उजाले की किरण बन आई ।
अकेले बरसो गुजारे घनगोर जंगल में ,
फिर किसी इन्सान की सुगबुगाहट ।
बस इस वीरान दिल को ,
ऐसी ही लगती है तेरी मुस्कराहट ।

             ***    दिनेश चारण
दिनेश चारण