!!

Welcome to Kavya Kosh

This is a retired Kavyakosh forum used as an archive. To access new Kavyakosh.Click here

Author Topic: दोहा प्रयास  (Read 88 times)

Offline Sajan Murarka

  • Hero Member
  • *****
  • Topic Author
  • Posts: 1834
  • Karma: +1/-1
  • Gender: Male
    • my  blog
दोहा प्रयास
« on: April 05, 2015, 01:53:53 PM »
दोहा प्रयास :---
.
फल की आशा ब्यर्थ है "गीता" देती ज्ञान
तब सवाल करम प्रधान या है भाग्य महान
.
तकदीर जब चले तो सहज नतीजा आय
तदबीर का फल मिलता तकदीर जब सहाय
.
पाप-पुण्य कि बात जान सब मुक़द्दर से पाय
तकदीर का साथ मिले सिकंदर व कहलाय
.
प्रमाणिक है असफलता से जो भी घबराय
प्रयास न कर हताश हो खुद का नाश कराय
.
जब धार लेते मन मे अहम या कोइ वहम
विवेक हो जाता शून्य बिचार होता खतम
.
अपनो का तिरस्कार कर, अभिमान जो दिखाय
अहम का नाश प्रभु करे , वह कैसे बच पाय
.
सुनो भाई कहते गुणी जन हमको समझाय
बोलो वचन मधूर से सहज शीतल सुहाय
.
कभी किसी का दिल दियो ना अकारण दुखाय
मन टूटे जो एक बार, लाख कर जुड़ न पाय

.
सजन
में , मेरी तन्हाई, कुछ बीते लम्हे , कागज के कुछ टुकड़े को समेटे दो पंक्तिया . .