तेरी बेवफाई

कैसे करूँ भरोसा तेरा, तुमने तो कहा था कभी साथ ना छोड़ोगे, कभी रिश्ते ना तोडोगे कभी तनहा ना छोड़ोगे, हर सुबह-ओ-शाम गुजारोगे अब क्या हुआ याद नही आती हमारी, या दिन नही ढलता शाम नही होती ……anshika rai

मेरा पैगाम

हवाओँ के जरिए भेजा है हमने इक पैगाम, पैगाम भेजा है हमने आपके नाम, हमने लिखा है ना हमसे हुई कोई खता ना आपसे हुई खता, फिर क्यों हैं खफा ना आप हैं बेवफा ना हम बेवफा, अंशिका राय