About Sweta Sinha

“कुछ कही अनकही बातें मन के समन्दर में लहरें बन भावनाओं को उद्वेलित करती रहती है,भावों को मथने से जो मोती निकले उन्हें शब्द देकर रचनाओं के माध्यम से गूँथने का प्रयास किया है मैंने”

आँखें

तुम हो मेरे बता गयी आँखें। चुप रहके भी जता गयी आँखें।। छू गयी किस मासूम अदा से, मोम बना पिघला गयी आँखें। रात के ख़्वाब से हासिल लाली, लब पे बिखर लजा गयी आँखें। बोल चुभे जब काँटे बन के, गम़ में डूबी नहा गयी आँखें। पढ़ एहसास की सारी चिट्ठियाँ, मन ही मन बौरा गयी आँखें। कुछ न भाये तुम बिन साजन, कैसा रोग लगा गयी आँखें।      #श्वेता🍁

मन की नमी

मन की नमी दूब के कोरों पर, जमी बूँदें शबनमी। सुनहरी धूप ने, चख ली सारी नमी। कतरा-कतरा पीकर मद भरी बूँदें, संग किरणों के, मचाये पुरवा सनसनी। सर्द हवाओं की छुअन से पत्ते मुस्काये, चिड़ियों की हँसी से, कलियाँ हैं खिलीं, गुलों के रुख़सारों पर इंद्रधनुष उतरा, महक से बौरायी, हुईं तितलियाँ मनचली। अंजुरीभर धूप तोड़कर बोतलों में बंद कर लूँ, सुखानी है सीले-सीले, मन की सारी नमी। #श्वेता🍁

सुरमई अंजन लगा

सुरमई अंजन लगा सुरमई अंजन लगा निकली निशा। चाँदी की पाजेब से छनकी दिशा।। सेज तारों की सजाकर चाँद बैठा पाश में, सोमघट ताके नयन भी निसृत सुधा की आस में, अधरपट कलियों ने खोले, मौन किरणें चू गयी मिट गयी तृषा। छूके टोहती चाँदनी तन निष्प्राण से निःश्वास है, सुधियों के अवगुंठन में बस मौन का अधिवास है, प्रीत की बंसी को तरसे, अनुगूंजित हिय की घाटी खोयी दिशा। रहा भींगता अंतर्मन चाँदनी गीली लगी, टिमटिमाती दीप की लौ रोई सी पीली लगी, रात चुप, चुप है हवा स्वप्न ने ओढ़ी चुनर जग गयी निशा। #श्वेता🍁