मैं जीवन के दुर्लभ दर्पण में

मैं जीवन के दुर्लभ दर्पण में ढूँढ़ रहा हूँ तेरी छवि सुन्दर प्रकृति की भी पावन परछाई में खोज रहा हूँ कृति-चिन्ह निरंतर।   किस किसको खोजूँ, किसको पाऊँ क्षीण-शक्ति-स्त्रोत युक्त जीवन में ढूँढ़ रहा हूँ तेरी छवि सुन्दर मैं जीवन के दुर्लभ दर्पण में   मन वीणा तेरे संकेतों से करती साधना का मात्र प्रयास पर खंड़ित तारों में खो जाता हर साध्य स्वर का अटूट विश्वास   कौन गीत मैं किस लय में गाऊँ सरगम के फैले सूनेपन में ढूँढ़ रहा हूँ तेरी छवि सुन्दर मैं जीवन के दुर्लभ दर्पण में     बनने खुद मैं भी तेरी Continue reading मैं जीवन के दुर्लभ दर्पण में

बिखरी साँसें कहती जाती

बिखरी साँसें कहती जाती हर पल को बस खुश रहने दो। अधरों को मुस्कानों से कुछ बिखरे मोती चुन लेने दो।   पीड़ा के पलने से उठकर कुछ कदम जगत में चलने दो गिरकर उठने का साहस ले जीने का सार समझने दो।   डर से डर जाने के भय से मुक्त सभी को हो जाने दो बार बार जीवन में आती मँड़राती मौत हटाने दो।   उसमें साहस की कुछ घड़ियाँ बस पल दो पल तो चलने दो जग में सिर भी ऊँचा करके मानव-सा बन कुछ रहने दो।   उसके अंदर विनम्र भाव खुद शांत चित्त से आ Continue reading बिखरी साँसें कहती जाती

मानव कुल कितना जीता है

मानव कुल कितना जीता है कुछ पल कुछ क्षण जीता है। मरने के पहले किश्तों में मरते मरते ही जीता है। जन्म समय हर शिशु रोता है फिर हँसता है, मुस्काता है आगे चिन्ता लिये हुए वह हँसता कम, रोता ज्यादा है। मानव कुल कितना जीता है कुछ पल कुछ क्षण जीता है। मानव सबको ठुकराता है विविध रूप से कलपाता है खुद भी मुरझाया रहता है मुस्कानों से कतराता है। मानव कुल कितना जीता है कुछ पल कुछ क्षण जीता है। कोलाहल से डर जाता है वीरानों में जा बसता है त्याग सपन जब वह उठता है आगे बढ़ने Continue reading मानव कुल कितना जीता है

गिरने का देखो जमाना हि आया।

गिरने का देखो जमाना हि आया। शेयर गिर रहा है हेयर गिर रहा हैं । समझता था ऊपर चढे वो है गिरते मगर जो है नीचे वही गिर रहे हैं । क्या बात है सच का साथी रहा जो वही घिर रहा है सही घिर रहा है । गिराने की ख्वाहिश रही दिल में जिसके मुझे तो गिराने में खुद गिर रहे है । गिरने का देखो जमाना हि आया। शेयर गिर रहा है हेयर गिर रहा हैं । कहीं पर चढ़ा भाव आलू के देखो कहीं प्याज उछली नभ छू रही है । मगर यह भी देखा भाव भारी Continue reading गिरने का देखो जमाना हि आया।

शब्द ताकत है शब्द दुआ है

*शब्द ताकत है शब्द दुआ है *शब्द घातक है शब्द दवा है *शब्द वेद है शब्द कुरान है *शब्द बाइबिल शब्द पुरान है शब्द अल्लाह शब्द भगवान है शब्द उपदेश शब्द गीत गान है शब्द मे समाहित आस्था महान है शब्द मंत्र शब्द फरमान है शब्द पूजा है शब्द अजान है शब्द बडाई है शब्द सम्मान है शब्द गीत है शब्द तान है शब्द ही अंधे का भान है शब्द अधिगम की जान है शब्द से होता मानव की पहचान है सबको इसका संज्ञान है। शब्द शक्ति है शब्द ही ज्ञान है शब्द कवि लेखक का प्रान है। शब्द से Continue reading शब्द ताकत है शब्द दुआ है

अनछुए सपने

अनछुए सपने मैं भी चाहती हूँ देखना कैसे मुस्कुराता है चाँद मधुर चांदनी रात में, और कैसे खिलखिलाते हैं तारे जब करते है स्नान आकाशगंगा में मैं भी चाहती हूँ देखना उस नीले आसमान को जहाँ हर कोई उड़ना चाहता है, और चूमना चाहती हूँ उसके आसमानी कपोलों को मैं भी चाहती हूँ देखना सागर की उन उतावली लहरों को जो चूमना चाहते हैं हिमगिर को और करना चाहते हैं विश्राम उसकी चांदनी चादर की शीतल छाँव तले मैं भी चाहतीं हूँ देखना कि कितनी आकर्षक दिखती है धरा बसंत की पीली चुनरिया ओढ़े और कितनी मनोहर होगा वह दृश्य Continue reading अनछुए सपने

परिवेश

ख्वाहिशों में है विशेष, मेरा मनचाहा परिवेश…. जहाँ उड़ते हों, फिजाओं में भ्रमर, उर में उपज आते हों, भाव उमड़कर, बह जाते हों, आँखो से पिघलकर, रोता हो मन, औरों के दु:ख में टूटकर….. सुखद हो हवाएँ, सहज संवेदनशील परिवेश…. ख्वाहिशों में है विशेष, मेरा मनचाहा परिवेश…. जहाँ खुलते हों, प्रगति के अवसर, मन में उपजते हो जहाँ, एक ही स्वर, कूक जाते हों, कोयल के आस्वर, गाता हो मन, औरों के सुख में रहकर…… प्रखर हो दिशाएँ, प्रबुद्ध प्रगतिशील परिवेश…. ख्वाहिशों में है विशेष, मेरा मनचाहा परिवेश…. जहाँ बहती हों, विचार गंगा बनकर, विविध विचारधाराएं, चलती हों मिलकर, रह Continue reading परिवेश

मन की नमी

मन की नमी दूब के कोरों पर, जमी बूँदें शबनमी। सुनहरी धूप ने, चख ली सारी नमी। कतरा-कतरा पीकर मद भरी बूँदें, संग किरणों के, मचाये पुरवा सनसनी। सर्द हवाओं की छुअन से पत्ते मुस्काये, चिड़ियों की हँसी से, कलियाँ हैं खिलीं, गुलों के रुख़सारों पर इंद्रधनुष उतरा, महक से बौरायी, हुईं तितलियाँ मनचली। अंजुरीभर धूप तोड़कर बोतलों में बंद कर लूँ, सुखानी है सीले-सीले, मन की सारी नमी। #श्वेता🍁

आत्मकथा

खुद को समझ महान, लिख दी मैने आत्मकथा! इस तथ्य से था मैं बिल्कुल अंजान, कि है सबकी अपनी व्यथा, हैं सबके अनुभव, अपनी ही इक राम कथा, कौन पढे अब मेरी आत्मकथा? अंजाना था मैं लेकिन, लिख दी मैने आत्मकथा! हश्र हुआ वही, जो उसका होना था, भीड़ में उसको खोना था, खोखला मेरा अनुभव, अधूरी थी मेरी कथा, पढता कौन मेरी ऐसी आत्मकथा? अधूरा अनुभव लेकर, लिखी थी मैने आत्मकथा! अनुभव के है कितने विविध आयाम, लघु कितना था मेरा ज्ञान, लघुता से अंजान, कर बैठा था मैं अभिमान, बनती महान कैसे ये आत्मकथा? अभिमानी मन लेकर, लिखी Continue reading आत्मकथा

जीवन नदिया, मन है कश्ती

” जीवन नदिया, मन है कश्ती “ ये जीवन है क्या ? एक बहती नदिया की धारा-सा ! कभी शांत तो कभी चंचल , कभी उजला तो कभी अनमिट अँधेरा-सा ! ये जीवन है क्या ? एक बहती नदिया की धारा-सा ! जीवन की इस नदिया पर , तैरती मानव मन की ये कश्ती , कभी ख़ुशी की लहरों संग इठलाती-मुस्कुराती हुई , शांति और सुकून से बहती , तो कभी दुःख की लहरों से टकराती-डगमगाती हुई , निराशा के गर्त में डूबती ये कश्ती ! दिग्भ्रमित मानव मन की ये कश्ती , न दिशा का है कोई ज्ञान , Continue reading जीवन नदिया, मन है कश्ती

बदला सा अक्श

इस दफा आईने में, बदला सा था अक्श मेरा…. न जाने वो कौन सा, जादू था भला, न जाने किस राह, मन ये मेरा था चला, कुछ सुकून ऐसा, मेरे मन को था मिला, आँखों मे चमक, नूर सा चेहरा खिला। आईना था वही, बस बदला सा था अक्श मेरा… इस दफा, जादू किसी का था चला, दुआ किसी की, कबूल कर गया खुदा, नई राह थी, नया था कोई सिलसिला, नूर लेकर यूँ, अक्श फूल सा खिला। इस दफा आईने में, यूँ बदला सा था अक्श मेरा…. धूंध छँट चुकी, इक शख्स था मिला, नूर-ए-खुदा शख्स के चेहरे पे Continue reading बदला सा अक्श

व्यथा वृक्ष की।

क्यो काटते हो मुझे मैं तो जीवन देता हूं स्वयं ना लेकर अपना कुछ भी फल तुमको दे देता हूं।। चोट तुम्हारी कुल्हाड़ी का हर पल सहता रहता हूँ जब तक अंतिम स्वास चलती है मेरी प्राणवायु ही देता रहता हूँ।। फिर क्यों काटते हो मुझे मैं तो हर सुख दुख में काम आता हूं कभी द्वार बन कभी बन खिड़की घर की लाज बचाता हूँ।। पल पल ऐ मनुष्य तू हमको कितने घाव देता है गर्मी के मौसम में शीतल छाँव हम्हीं से लेता है।। फिर क्यों काटते हो मुझे मैं भी तो तुम्हारी तरह इसी धरती माँ की Continue reading व्यथा वृक्ष की।

क्यूँ झाँकूं मैं बाहर

क्यूँ झाँकूं मैं मन के बाहर….. जब इतना कुछ घटित होता है मन के ही भीतर, सब कुछ अलिखित होता है अन्दर ही अन्दर, कितने ही विषयवस्तु, कौन चुने आकर? बिन लघुविराम, बिन पूर्णविराम… बिन मात्रा, शब्दों बिन प्रस्फुटित होते ये अक्सर, ये निराकार से प्रतिबिंब यूँ ही काटते चक्कर, मन के ये प्रतिबिंब, देखे कौन आकर? लिखने को क्युँ झाँकूं मैं बाहर…. लिखने के कितने ही अवसर है इस मन के भीतर, अलिखित से स्वलेख उपजते इसके अन्दर, मन की ये उपज, काटे कौन आकार? बिन खाद-बीज, बिन पानी… ऊपजाऊ सा है ये मन, मरुभूमि सी नहीं ये ब॔जर, Continue reading क्यूँ झाँकूं मैं बाहर

रात और तुम

धीरे! उफ़, कितनी धीरे-धीरे ढलती है यह रात… अपारदर्शी परत सी ये घनेरी रात, विलीन है जिसमें रूप, शक्ल और पते की सब बात, पिघली सी इसमें सारी प्रतिमा, मूर्त्तियाँ, धूमिल सी है ओट और पत्तियाँ, बस है एक स्वप्न और अधूरी सी है कई बात… धीरे! उफ़, कितनी धीरे-धीरे ढलती है यह रात… चुपचाप कालिमा घोलती ये रात, स्वप्नातीत, रूपातीत नैनों में ऊँघती सी उथलाती नींद, अपूर्ण से न पूरे होने वाले कई ख्वाब, मींचती आँखों में तल्खी मन में बेचैनियाँ, बस है इक उम्मीद और अधूरी सी है कई बात… धीरे! उफ़, कितनी धीरे-धीरे ढलती है यह रात… Continue reading रात और तुम