वक़्त

वक़्त वक्त तू रहता कहाँ है कहाँ बनाया है तूने बसेरा हो अगर कोई पता ठिकाना मुझे भी इक दिन बतलाना होगी वह कौन-सी … Continue reading