पलाश

काश! खिले होते हर मौसम ही ये पलाश... चाहे पुकारता किसी नाम से, रखता नैनों मे इसे हरपल, परसा, टेसू, किंशुक, केसू, … Continue reading