मेने वक़्त बदलते देखा है !!

मेने वक़्त बदलते देखा है ! मेने तूफानों को साहिलो पर ठहरते देखा है.. हाँ मेने वक़्त को बदलते हुए देखा है.. मेने दिन के उजालो को, रात के अँधेरे में बदलते देखा है.. हाँ मेने वक़्त को बदलते हुए देखा है.. मेने हर दिल अजीज़ लोगो को भी, एक पलभर में बिछड़ते हुए देखा है.. हाँ मेने वक़्त को बदलते हुए देखा है.. चंद रुपयों के लालच में, अपनों को अपनों से झगड़ते हुए देखा है.. हाँ मेने वक़्त को बदलते हुए देखे है.. एक सत्ता की कुर्सी के आगे, अच्छे अच्छों का ईमान सड़क पर बिकते हुए देखा Continue reading मेने वक़्त बदलते देखा है !!

कविता

*विषैली हवा* हर कोई शहर में आकर बस रहा। नित नई समस्याओं से घिर रहा।। बीमार रहते है शहर वाले अक्सर। विषैली हवा का असर दिख रहा।। काट दिये शहरों में सब पेड़ो को। इमारतों में घुट घुट कर पिस रहा।। धूल , धुँआ इस कदर फैला देखो। जिंदगी के दिन आदमी गिन रहा।। गरीबी देखी नही जाती इंसान की। तन ढँकने को वह पैबन्द सिल रहा।। शूल सारे राह के अब कौन उठाता। पुरोहित सब मतलबपरस्त मिल रहा।। कवि राजेश पुरोहित 98,पुरोहित कुटी श्रीराम कॉलोनी भवानीमंडी जिला झालावाड़ राजस्थान पिन 326502

मेरे गीतों के शब्दों में श्रंगार सजा दो

मेरे गीतों के शब्दों में श्रंगार सजा दो तुम शब्दों में अर्थ जगाकर संस्कार जगा दो।   शब्दों की झंकार तुम्हीं हो प्राणों की हुँकार तुम्हीं हो श्रद्धा का विस्तार तुम्हीं हो करुणा की पुकार तुम्हीं हो।   झंकृत कर मधुर स्वर तुम अपनी वीणा के मेरे भी गीतों में श्रद्धा की गूँज निखार दो।   खगवृन्दों के स्वर गुंजन की किलकारी गीतों में भर दो ले भ्रमरों से यौवन उन्माद शब्द पुष्प में कुछ रस भर दो।   चेतनता की प्रखर प्रभा से आलौकित करने कवि के मृदु हृदय में शक्ति का संचार करा दो।   मस्त पवन के Continue reading मेरे गीतों के शब्दों में श्रंगार सजा दो

कविता

अग्नि परीक्षा कल्पना चावला सी बेटियाँ अंतरिक्ष मे सफर करती है इंदिरा सी होती है बेटियाँ राजनीति में नाम करती है पी टी उषा बन दौड़ लगाती देश का नाम रोशन करती है निवेदिता बन सेवा करती सबको शिक्षा से जोड़ती है मदर टेरेसा बन सेवा करती सबको निरोग बनाती है गार्गी जैसी विदुषी बनती शास्त्र ज्ञान में अव्वल आती सीता सी पतिव्रता बन ये पल पल अग्नि परीक्षा देती मीरां सी भक्ति में खो जाती कृष्ण नाम का सुमिरण करती वसुंधरा बन गौरव बढ़ाती प्रतिभा बन उच्च पद पाती मीरा कुमार,मायावती ममता जैसी राजनैतिक पद पाती फाइटर प्लेन उड़ाने Continue reading कविता

कान्हा संग खेलू आज होली (होली विशेषांक)

आयी बृज में रंगबिरंगी होली रे केसरिया रंग रंगी मोरी चोली रे गुलाल उड़ावे कान्हा की टोली रे आज धरती अंबर सब भयो है लाल आज पवन भी उड़ाए अबीर गुलाल हाथ जोड़ पडूँ तोरी पावन पैंया चल हट छोड़ मोरी नाजुक बैंया मोहे रंग दे आज मोरे भोले सैंया आज धरती अंबर सब भयो है लाल आज पवन भी उड़ाए अबीर गुलाल कान्हा अब तो दिखा दे झलक तुझ बिन कैसे झपकाऊँ पलक अल्हड यौवन मोरा जाये छलक  आज धरती अंबर सब भयो है लाल आज पवन भी उड़ाए अबीर गुलाल मादक फागुन भी होरी रंग में चहके फ़ाग गावत Continue reading कान्हा संग खेलू आज होली (होली विशेषांक)

होली खुशियों की झोली

आयी बसंत की होली मीठी लगती है बोली रंग सराबोर है वन मे लाल सुनहरी पीली फाग का रंग चढा है सब निकल पडी है टोली प्रिय प्रियतम को रंग डाले सब भीज गयी है चोली फागुन के गीत सुनाए मीठी लगती है बोली कोई गुझिया पूडी खाये कोई भंग सो रंग जमाए कोई पकड के रंग लगाए कोई करता हंसी ठिठोली अबीर गुलाल लगे है सुन्दर लगती है टोली। ढोल के थाप लगे है सब रंग खेले हमजोली। भूल गये सब शिकवे खुशियां लाती है होली। रंग उडे नभ तक है उड रही अबीर और रोली। होली की शुभकामनाएं Continue reading होली खुशियों की झोली

गुफ़्तगू हो गई ख्वाब से

सजी महफ़िल ख़्वाबों की, चांदनी रात के आँचल तले। इसी आँचल ने पाला इनको, इसकी छाँव में ही पले। संगीत की मादकता में, उधर ख्वाब थिरक रहे थे। आबशार बनकर बा-दस्तूर, इधर पैमाने छलक रहे थे। ख़ामोशी थी चिर निद्रा में, मदहोशी का था आलम। कोई किसी की प्रियतमा, कोई किसी का था बालम। थिरक रहा था मैं भी, पकड़ कर हाथ में प्याला। ख़्वाबों में भी ना देखी, ऐसी उन्मत्त मधुशाला। पूछा मैंने एक ख्वाब से, क्या देखा है कभी ख्वाब? मुस्कुराकर उसने दिया, मेरे कौतुक प्रश्न का ज़वाब। देखते नहीं हम ख्वाब कभी, ख्वाब दिखाते हैं इंसानों को। Continue reading गुफ़्तगू हो गई ख्वाब से

गिरने का जमाना है आया।

गिरने का देखो जमाना हि आया। शेयर गिर रहा है हेयर गिर रहा हैं । समझता था ऊपर चढे वो है गिरते मगर जो है नीचे वही गिर रहे हैं । क्या बात है सच का साथी रहा जो वही घिर रहा है सही घिर रहा है । गिराने की ख्वाहिश रही दिल में जिसके मुझे तो गिराने में खुद गिर रहे है । गिरने का देखो जमाना हि आया। शेयर गिर रहा है हेयर गिर रहा हैं । कहीं पर चढ़ा भाव आलू के देखो कहीं प्याज उछली नभ छू रही है । मगर यह भी देखा भाव भारी Continue reading गिरने का जमाना है आया।

चाँद सितारों से रात सजा रखी है

चाँद सितारों से रात सजा रखी है चाँद सितारों से रात सजा रखी है जमीं पे मखमली दूब सजा रखी है। बता, ये दुनिया क्यूँकर सजा रखी है वो बोला, तेरे लिये सजा रखी है। … भूपेन्द्र कुमार दवे

तुमने अपनी दुनिया सजा रखी है

तुमने अपनी दुनिया सजा रखी है    तुमने अपनी दुनिया सजा रखी है भ्रमरों की मस्त महफिल बुला रखी है पर तुमने मुझे तन्हा रहने न दिया कुछ याद अपनी मेरे लिये सजा रखी है।                                  … भूपेन्द्र कुमार दवे               00000

सिर्फ हादसा?

सिर्फ हादसा…? हँसती खेलती एक ज़िन्दगी, शाम ढलते ऑफिस से निकलकर, है दिल्ली की सड़क पर …,, ओवरटाइम से… सुनहरे सपने को जोड़ती, घरपर मोबाइल से कहेती, बस, मम्मी अभी आयी… आज टेक्षीयाँ भी भरी हुई, और…खाली है उसे रुकना नहीं, अपनी फिक्र में दौड़ता शहर, चकाचौंध रौशनी…!! तेजी से एक शैतानी कार थोड़ी रुकी, …और खींचकर उड़ा ले गयी कँवारी हसरतें..मासूमियत… वो जीने की तमन्ना, पीछे सड़क पर पड़ा मोबाइल,पर्स कराहता रहा… चीखे हॉर्न से टकराकर बिखरती रही… सड़क के मोड़ पर ज़िन्दगी को ध्वस्त करके फेंक दिया… थोड़ी ज़ुकी आँखों की भिड़ ने एक ज़िंदा लाश को घर Continue reading सिर्फ हादसा?

उपांतसाक्षी

न जाने क्यूँ….. जाने…. कितने ही पलों का… उपांतसाक्षी हूँ मैं, बस सिर्फ…. तुम ही तुम रहे हो हर पल में, परिदिग्ध हूँ मैं हर उस पल से, चाहूँ भी तो मैं …. खुद को… परित्यक्त नहीं कर सकता, बीते उस पल से। उपांतसाक्षी हूँ मैं…. जाने…. कितने ही दस्तावेजों का… उकेरे हैं जिनपर… अनमने से एकाकी पलों के, कितने ही अभिलेख…. बिखेरे हैं मन के अनगढ़े से आलेख, परिहृत नही मैं पल भर भी… बीते उस पल से। आच्छादित है… ये पल घन बनकर मुझ पर, आवृत है…. ये मेरे मन पर, परिहित हूँ हर पल, जीवन के उपांत Continue reading उपांतसाक्षी

परिवेश

ख्वाहिशों में है विशेष, मेरा मनचाहा परिवेश…. जहाँ उड़ते हों, फिजाओं में भ्रमर, उर में उपज आते हों, भाव उमड़कर, बह जाते हों, आँखो से पिघलकर, रोता हो मन, औरों के दु:ख में टूटकर….. सुखद हो हवाएँ, सहज संवेदनशील परिवेश…. ख्वाहिशों में है विशेष, मेरा मनचाहा परिवेश…. जहाँ खुलते हों, प्रगति के अवसर, मन में उपजते हो जहाँ, एक ही स्वर, कूक जाते हों, कोयल के आस्वर, गाता हो मन, औरों के सुख में रहकर…… प्रखर हो दिशाएँ, प्रबुद्ध प्रगतिशील परिवेश…. ख्वाहिशों में है विशेष, मेरा मनचाहा परिवेश…. जहाँ बहती हों, विचार गंगा बनकर, विविध विचारधाराएं, चलती हों मिलकर, रह Continue reading परिवेश

स्मरण

स्मरण फिर भी मुझे, सिर्फ तुम ही रहे हर क्षण में …… मैं कहीं भी तो न था ….! न ही, तुम्हारे संग किसी सिक्त क्षण में, न ही, तुम्हारे रिक्त मन में, न ही, तुम्हारे उजाड़ से सूनेपन में, न ही, तुम्हारे व्यस्त जीवन में, कहीं भी तो न था मैं तुम्हारे तन-बदन में …. स्मरण फिर भी मुझे, सिर्फ तुम ही रहे हर क्षण में …… मैं कहीं भी तो न था ….! न ही, तुम्हारी बदन से आती हवाओं में, न ही, तुम्हारी सदाओं में, न ही, तुम्हारी जुल्फ सी घटाओं में, न ही, तुम्हारी मोहक अदाओं Continue reading स्मरण

बर्फ के फाहे

कुछ फाहे बर्फ की, जमीं पर संसृति की गिरीं…..   व्यथित थी धरा, थी थोड़ी सी थकी, चिलचिलाती धूप में, थोड़ी सी थी तपी, देख ऐसी दुर्दशा, सर्द हवा चल पड़ी, वेदनाओं से कराहती, उर्वर सी ये जमी, सनैः सनैः बर्फ के फाहों से ढक चुकी…..   कुछ बर्फ, सुखी डालियों पर थी जमीं, कुछ फाहे, हरी पत्तियों पर भी रुकी, अवसाद कम गए, साँस थोड़े जम गए, किरण धूप की, कही दूर जा छुपी, व्यथित जमीं, परत दर परत जम चुकी….   यूँ ही व्यथा तभी, भाफ बन कर उड़ी, रूप कई बदल, यूँ बादलों में उभरी, कभी धुआँ, Continue reading बर्फ के फाहे