एकतरफा इश्क

एकतरफा इश्क

नज़र में एक ही चेहरा, जो लाजवाब हो जाता है
चमन में गुल खिले कोई, मगर गुलाब हो जाता है
जला देता है दिल की शक्लो-सूरत को बेरहमी से
अगर हो एकतरफा तो, इश्क तेजाब हो जाता है

About Satyendra Govind

I always try to write the voice of my heart.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.