ज़रा सँभल के

बंदिश नही कांटों पे उछल-उछल के चलना
मगर मोहब्बत की गली में ज़रा सँभल के चलना
©Satyendra Govind
{Bettiah,Bihar}

About Satyendra Govind

I always try to write the voice of my heart.