स्मरण

स्मरण फिर भी मुझे, सिर्फ तुम ही रहे हर क्षण में …… मैं कहीं भी तो न था ….! न ही, तुम्हारे संग किसी सिक्त क्षण में, न ही, तुम्हारे रिक्त मन में, न ही, तुम्हारे उजाड़ से सूनेपन में, न ही, तुम्हारे व्यस्त जीवन में, कहीं भी तो न था मैं तुम्हारे तन-बदन में …. स्मरण फिर भी मुझे, सिर्फ तुम ही रहे हर क्षण में …… मैं कहीं भी तो न था ….! न ही, तुम्हारी बदन से आती हवाओं में, न ही, तुम्हारी सदाओं में, न ही, तुम्हारी जुल्फ सी घटाओं में, न ही, तुम्हारी मोहक अदाओं Continue reading स्मरण

अनन्त प्रणयिनी

कलकल सी वो निर्झरणी, चिर प्रेयसी, चिर अनुगामिणी, दुखहरनी, सुखदायिनी, भूगामिणी, मेरी अनन्त प्रणयिनी…… छमछम सी वो नृत्यकला, चिर यौवन, चिर नवीन कला, मोह आवरण सा अन्तर्मन में रमी, मेरी अनन्त प्रणयिनी…… धवल सी वो चित्रकला, नित नवीन, नित नवरंग ढ़ला, अनन्त काल से, मन को रंग रही, मेरी अनन्त प्रणयिनी…… निर्बाध सी वो जलधारा, चिर पावन, नित चित हारा, प्रणय की तृष्णा, तृप्त कर रही, मेरी अनन्त प्रणयिनी…… प्रणय काल सीमा से परे, हो प्रेयसी जन्म जन्मान्तर से, निर्बोध कल्पना में निर्बाध बहती, मेरी अनन्त प्रणयिनी…… अतृप्त तृष्णा अजन्मी सी, तुम में ही समाहित है ये कही, तृप्ति की Continue reading अनन्त प्रणयिनी

आइए आ जाइए

आइए आ जाइए, थोड़ा और करीब आ जाइए…… हँसिए-हँसाइए, रूठीए मनाइए, गाँठ सब खोलकर, जरा सा मुस्कुराइए, गुदगुदाइए जरा खुद को भूल जाइए, भरसक यूँ ही कभी, मन को भी सहलाइए, जीने के ये चंद बहाने सीख जाइए…… आइए आ जाइए, थोड़ा और करीब आ जाइए…… हैं जो अपने, दूर उनसे न जाइए, रिश्तों की महक को यूँ न बिसर जाइए, मन की साँचे में इनको बस ढ़ालिए, जीते जी न कभी, इन रिश्तों को मिटाइए, जीने के ये चंद बहाने सीख जाइए…… आइए आ जाइए, थोड़ा और करीब आ जाइए…… भूल जो हुई, मन में न बिठाइए, खता भूलकर, Continue reading आइए आ जाइए