नेता

मन कहता नेता बन जाऊ। पहनू लम्बा कुर्ता टोपी जोर जोर से मैं चिल्लाऊ। मन कहता नेता बन जाऊँ कोई नहीं पूछेगा पढाई टैक्स नहीं जो होगी कमाई बी आई पी की कुर्सी पाऊ मन कहता नेता बन जाऊँ । कोई कानून न आडे आये जो आये संशोधन करवाये बिना पूँजी धन थोक कमाऊ मन कहता नेता बन जाऊँ । झूठ बोलना सीख ही लूँगा । हर काम में कमीशन लूँगा जिसको तिसको धाक जमाऊ मन कहता नेता बन जाऊँ । वादा मेरा अस्त्र बनेगा झूठ मेरा धर्म बनेगा दाग रहे पर बेदाग दिखाऊ मन कहता नेता बन जाऊँ । Continue reading नेता

होली खुशियों की झोली

आयी बसंत की होली मीठी लगती है बोली रंग सराबोर है वन मे लाल सुनहरी पीली फाग का रंग चढा है सब निकल पडी है टोली प्रिय प्रियतम को रंग डाले सब भीज गयी है चोली फागुन के गीत सुनाए मीठी लगती है बोली कोई गुझिया पूडी खाये कोई भंग सो रंग जमाए कोई पकड के रंग लगाए कोई करता हंसी ठिठोली अबीर गुलाल लगे है सुन्दर लगती है टोली। ढोल के थाप लगे है सब रंग खेले हमजोली। भूल गये सब शिकवे खुशियां लाती है होली। रंग उडे नभ तक है उड रही अबीर और रोली। होली की शुभकामनाएं Continue reading होली खुशियों की झोली