प्यार क्या है?

” प्यार क्या है..?  “ प्यार तपस्या और साधना की अनुभूति है, प्यार समंदर से मिलने वाला मोती है, प्यार राधा है, रुकमणी है, शेषनाग है, प्यार गोकुल की गलियों में कान्हा का रास है, प्यार शबरी के बैर और मीरा का विश्वास है, प्यार केकई के कह देने पर राम का वनवास है, प्यार  माँ का बेटे से दुलार है, प्यार पिता का दिया अतुलित संसार है, प्यार भाई की कलाई पर बहिन की राखी है, प्यार गलती न होने पर भी मांगी गई माफ़ी है, प्यार दादी का बनाया मक्के की रोटी, सरसों का साग है, प्यार बड़े Continue reading प्यार क्या है?